Chhattisgarh

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के संयुक्त महानिदेशक ने यूनेस्को नामांकन प्रक्रिया में सहायता के लिए किया सिरपुर का दौरा





*सिरपुर, छत्तीसगढ़ – 14 मई*: सिरपुर, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण (साडा) द्वारा छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में स्थित सिरपुर के बहुप्रतिष्ठित एवं प्राचीन लक्ष्मण मंदिर एवं आसपास के आकर्षणों को यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल की सूची में नामांकित कराने के लिए किये गया प्रयासों के तहत, एक डोजियर की तैयारी के लिए विशेषज्ञ मार्गदर्शन प्रदान करने के प्राथमिक उद्देश्य के साथ, सिरपुर साडा के विनयपूर्ण निमंत्रण पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के सम्मानित संयुक्त महानिदेशक (अन्वेषण एवं उत्खनन) डॉ. प्रवीण कुमार मिश्रा द्वारा सिरपुर का दौरा किया गया।


सिरपुर अपनी समृद्ध ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के लिए प्रसिद्ध है, जिसमें छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व के पुरातात्विक स्थल हैं। यह क्षेत्र प्राचीन मंदिरों, मठों और शिलालेखों का घर है जो प्राचीन भारत में कला और संस्कृति के एक प्रमुख केंद्र के रूप में इसके महत्व को दर्शाते हैं।

सिरपुर आगमन पर डॉ. मिश्रा का सिरपुर साडा के सीईओ श्री वाई. राजेंद्र राव, भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय के छत्तीसगढ़ नोडल कार्यालय के प्रबंधक श्री मयंक दुबे और एएसआई, जबलपुर सर्कल के बहुत ही कुशल पुरातत्वविद् श्री शिवम दुबे द्वारा पुष्पगुच्छ, शॉल एवं श्रीफल भेंट कर गर्मजोशी से स्वागत व सम्मान गया।

स्वागत भाषण के बाद, सिरपुर एसएडीए टीम ने क्षेत्र में चल रहे अनुसंधान और दस्तावेज़ीकरण कार्यों का गहन अवलोकन प्रस्तुत किया। इस प्रस्तुति में पुरातात्विक उत्खनन, ऐतिहासिक अनुसंधान, वास्तुशिल्प अध्ययन, सांस्कृतिक सर्वेक्षण, मानव विकास, जैव विविधता मूल्यांकन और सामाजिक-आर्थिक मूल्यांकन सहित विभिन्न पहलुओं को शामिल किया गया। इन प्रस्तुतियों का उद्देश्य सिरपुर के बहुमुखी मूल्य को प्रदर्शित करना, यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थिति के लिए इसकी पात्रता को मजबूत करना है।

सुश्री निष्ठा जोशी ने नामांकन प्रक्रिया के लिए आवश्यक विशिष्ट मानदंडों और उत्कृष्ट सार्वभौमिक मूल्य (ओयूवी) पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रारंभिक प्रस्तुति का नेतृत्व किया। सिरपुर साडा टीम पारंपरिक पुरातात्विक तकनीकों और 3डी स्कैनिंग जैसी आधुनिक तकनीकों सहित कई अनुसंधान और दस्तावेज़ीकरण विधियों का उपयोग करती है। शैक्षणिक संस्थानों और अन्य सरकारी निकायों के साथ सहयोग से इन प्रयासों का दायरा और गहराई बढ़ती है।

इसके बाद, श्री शिवम दुबे ने सिरपुर में नवीनतम पुरातात्विक खोजों को प्रस्तुत किया, जिसमें आगे की खुदाई और विस्तृत अध्ययन की आवश्यकता वाले क्षेत्रों पर जोर दिया गया। वहीं  श्री तरूण नई द्वारा सिरपुर की समृद्ध जैव विविधता प्रस्तुत की गई, सिरपुर में संरक्षण प्रयासों में पर्यावरण और जैव विविधता के पहलू भी शामिल हैं। स्थानीय वनस्पतियों और जीवों की रक्षा के लिए पहल चल रही है, यह सुनिश्चित करते हुए कि सांस्कृतिक विरासत के साथ-साथ प्राकृतिक विरासत भी संरक्षित है।

जबकि श्री गौरव तारक ने अगले दशक के लिए सिरपुर के लिए मास्टर डेवलपमेंट प्लान की रूपरेखा प्रस्तुत की। जिसमें विरासत संरक्षण के सामाजिक-आर्थिक लाभों को रेखांकित करते हुए स्थानीय समुदायों और हितधारकों के साथ बातचीत भी शामिल की गई। दस्तावेज़ीकरण प्रक्रिया के भाग के रूप में, व्यापक फ़ोटोग्राफ़िक रिकॉर्ड बनाए जा रहे हैं। सिरपुर की विरासत को प्रदर्शित करने वाली प्रदर्शनियों की योजना भी पाइपलाइन में है, जिसका उद्देश्य क्षेत्र की सांस्कृतिक संपत्ति के लिए जागरूकता और सराहना बढ़ाना है।

श्री मयंक दुबे ने पर्यटन और पर्यटक प्रबंधन योजना के व्यापक अवलोकन के साथ दी और बताया कि सिरपुर के लिए यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल का दर्जा सुरक्षित करने से पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा, रोज़गार के कई नए विकल्प खुलेंगे और स्थानीय व्यवसायों को बढ़ावा मिलेगा। बढ़ी हुई दृश्यता और मान्यता घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों पर्यटकों को आकर्षित करेगी, जो क्षेत्र की आर्थिक वृद्धि में योगदान देगी।

बैठक में श्री शिवम त्रिवेदी, श्री शशि प्रताप, श्री जीवन वर्मा और श्री अंशू शुक्ला सहित उल्लेखनीय व्यक्तियों ने भी भाग लिया, जिनका योगदान चर्चा में महत्वपूर्ण था।

इन सभी प्रस्तुतियों के गहन अवलोकन के पश्चात, डॉ. मिश्रा ने सिरपुर साडा द्वारा किए गए व्यापक प्रयासों के लिए अपनी प्रशंसा व्यक्त की। उन्होंने सिरपुर में विशिष्ट स्थलों का दस्तावेजीकरण करने और उनका पता लगाने के लिए ड्रोन, फोटोमेट्रिक और LiDAR तकनीक सहित उन्नत सर्वेक्षण तकनीकों की आवश्यकता पर जोर दिया। डॉ. मिश्रा ने टीम को इन प्रयासों में अपना पूरा समर्थन देने का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर डॉ. मिश्रा ने सिरपुर में कई प्रमुख पुरातात्विक और ऐतिहासिक स्थलों का दौरा भी किया, जिनमें प्रसिद्ध सिरपुर लक्ष्मण मंदिर, गंधेश्वर मंदिर और बौद्ध विहार शामिल हैं। इसके साथ ही उन्होंने सिरपुर साडा द्वारा सिरपुर के पास स्थित बांसकुड़ा ग्राम में स्थानीय समुदाय के लिए चलाये जा रहे बांस शिल्प प्रशिक्षण कार्यक्रम केंद्र का भी दौरा किया। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम एक पहल है जिसका उद्देश्य पारंपरिक शिल्प को संरक्षित और बढ़ावा देते हुए स्थानीय ग्रामीणों को व्यावसायिक कौशल के साथ सशक्त बनाना है।  इन यात्राओं के दौरान, उन्होंने संरक्षण की वर्तमान स्थिति का आकलन किया और स्थानीय विशेषज्ञों और सिरपुर साडा टीम के साथ इन स्थलों के महत्व पर चर्चा की।

ड्रोन, फोटोग्रामेट्री और LiDAR (लाइट डिटेक्शन एंड रेंजिंग) जैसी उन्नत प्रौद्योगिकियों को एकीकृत करने के लिए डॉ. मिश्रा की सिफारिशें चल रहे अनुसंधान और दस्तावेज़ीकरण प्रयासों में महत्वपूर्ण होंगी। सिरपुर साडा टीम ने विस्तृत सर्वेक्षण और आगे की पुरातात्विक खुदाई सहित भविष्य की पहल के लिए एक रोडमैप की रूपरेखा तैयार की है।

सिरपुर साडा के सीईओ श्री वाई. राजेंद्र राव ने डॉ. मिश्रा को बताया कि निकट भविष्य में, सिरपुर साडा इतिहासकारों, पुरातत्वविदों, वास्तुशिल्प विशेषज्ञों और विद्वानों को आमंत्रित करते हुए एक कार्यशाला आयोजित करने की योजना बना रहा है। इस कार्यशाला का उद्देश्य विरासत संरक्षण प्रयासों की गहराई को आगे बढ़ाते हुए सिरपुर के संबंध में अधिक जानकारी और दृष्टिकोण पर चर्चा करना और एकत्र करना है।

डॉ. प्रवीण कुमार मिश्रा ने टिप्पणी की, “सिरपुर साडा टीम का समर्पण और सावधानीपूर्वक प्रयास सराहनीय हैं। विरासत संरक्षण के प्रति उनका व्यापक दृष्टिकोण देश भर में इसी तरह की परियोजनाओं के लिए एक मानक स्थापित करता है। मुझे विश्वास है कि निरंतर प्रयासों और उन्नत प्रौद्योगिकियों के एकीकरण के साथ, सिरपुर जल्द ही यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में अपना उचित स्थान पा लेगा।

श्री वाई. राजेंद्र राव ने कहा, “डॉ. मिश्रा का दौरा बेहद लाभप्रद रहा है.’ उनकी अंतर्दृष्टि और समर्थन हमारी डोजियर तैयारी प्रक्रिया को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाएगा। हम आने वाली पीढ़ियों के लिए सिरपुर की समृद्ध विरासत को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके अतिरिक्त, हमारी आगामी कार्यशाला विशेषज्ञों को अपना ज्ञान साझा करने और हमारे चल रहे प्रयासों में योगदान करने के लिए एक मंच प्रदान करेगी।

डॉ. मिश्रा की सिरपुर यात्रा सिरपुर के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थलों को वैश्विक पहचान दिलाने के प्रयासों में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुई। उनकी विशेषज्ञ अनुशंसाओं और यात्रा की सहयोगात्मक भावना ने यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल नामांकन डोजियर की तैयारी के लिए एक मजबूत आधार तैयार किया है।

Related Articles
Manish Tiwari

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button