Chhattisgarh

प्रयास विद्यालय की पढ़ाई लिखाई का स्तर गिरा: मंत्री बोले- 2018 के बाद पढ़ाई के नाम पर बोगस होता रहा, होगी कार्यवाही

रायपुर। आदिम जाति कल्‍याण मंत्री राम विचार नेताम ने प्रयास विद्यालयों में शिक्षा के स्‍तर में गिरावट पर चिंता जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि 2018 के बाद वहां पढ़ाई के नाम पर केवल बोगस होता रहा। हमारी सरकार इन स्‍कूलों में शिक्षा के स्‍तर और गुणवत्‍ता में सुधार लाने का प्रयास करेगी। साथ ही इसकी खराब स्थिति जो भी दोषी है और भ्रष्‍टाचारी हैं उन सभी के खिलाफ कार्यवाही भी की जाएगी।

मंत्री नेताम ने यह बात आज विधानसभा में प्रश्‍नकाल के दौरान मोतीलाल साहू के एक प्रश्‍न का उत्‍तर देते हुए की। साहू ने पूछा था कि अनुसूचित क्षेत्र के लिए विशेष शैक्षणिक योजनाओं के अंतर्गत वर्ष 2019 से 2023 तक कितने “प्रयास” आवासीय विद्यालय, कहां-कहां पर प्रारंभ किए गए हैं।

Related Articles

इस पर नेताम ने बताया कि इस समय अवधी में 5 स्‍थानों पर प्रयास विद्यालय प्रारंभ किए गए हैं। इसमें नवीन बालक एवं कन्या प्रयास (अनुसूचित जनजाति) आवासीय विद्यालय पिनकापार, जिला-बालोद, नवीन बालक प्रयास (अनुसूचित जाति) आवासीय विद्यालय पाटन, जिला-दुर्ग, नवीन कन्या प्रयास (अनुसूचित जाति) आवासीय विद्यालय रायपुर, नवीन बालक प्रयास (अन्य पिछड़ा वर्ग) आवासीय विद्यालय रायपुर, नवीन कन्या प्रयास (अन्य पिछड़ा वर्ग) आवासीय विद्यालय बिलासपुर शामिल हैं।

साहू ने कहा कि 10वीं का परिणाम 2018 तक शत प्रतिशत रहा। 2023 आते- आते 92.6 प्रतिशत तक आ गया। यह चिंता का विषय है। इसी तरह 12वीं की भी स्थिति ऐसी ही रही। इस पर मंत्री नेताम ने 2018 के बाद पढ़ाई के नाम पर वहां केवल बेगस होता रहा। नेताम ने असंदी पर बैठे पूर्व मुख्‍यमंत्री डॉ. रमन सिंह की ओर देखते हुए कहा कि प्रयास विद्यालय आपकी दूर दृष्ठि है। उन्‍होंने कहा कि जो भी दोषी और भ्रष्‍टाचारी होगा उसे दंडित करुंगा।पर कुंवर सिंह निषाद ने पूछा कि पीनकापार में कब तक प्रयास खुल जाएगा। वहां पूर्व सीएम ने स्‍कूल स्‍वीकृत किया था, लेकिन वह विद्यालय दुर्ग में चल रहा है। इस पर मंत्री नेताम ने कहा कि शीघ्र ही इसके लिए प्रयास किया जाएगा।

Manish Tiwari

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button